yogianand.wordpress.com
चालाकियां, आत्मा-परमात्मा, अध्यात्म, धर्मजगत
“आत्मा वा अरे द्रष्टव्यः श्रोतव्यो मन्तव्यो निदिध्यासितव्यो” – बृहदारण्यक उपनिषद आत्मा के बारे में श्रवण, मनन और ध्यान के द्वारा जो एकत्व का अनुभव करने की चरम अवस्था है उसे निदिध्…