pravakta.com
तेरे ग़म के पनाह में अर्से बिते - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
तेरे ग़म के पनाह में अर्से बिते