pravakta.com
यह भोपाल नगर निगम का विभाजन नहीं, विस्तार है - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
मनोज कुमारआपके गिलास में आधा पानी है तो आप कह सकते हैं कि गिलास आधा है या फिर आप कह सकते हैं कि गिलास आधा भरा हुआ है. यह फिलासफी, जीवनदर्शन पुराना है. जब