pravakta.com
क्यों हम बेटियों को बचाएँ - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
“मुझे मत पढ़ाओ , मुझे मत बचाओ,, मेरी इज्जत अगर नहीं कर सकते ,तो मुझे इस दुनिया में ही मत लाओ मत पूजो मुझे देवी बनाकर तुम ,मत कन्या रूप में मुझे 'माँ' का