pravakta.com
बाल श्रम के कलंक से मुक्ति कब? - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
स्निग्धा श्रीवास्तव मैं उसका नाम नहीं जानती। लेकिन अकसर अपने घर से मेट्रो तक आने-जाने के दौरान उसे सड़कों से पालीथिन, कागज, प्लास्टिक और लोहे के टुकड़ों