pravakta.com
कब पूछेंगे यह बहते आसूं - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
कश्मीर की कल की तीन घटनाओं ने हृदय को द्रवित कर दिया है। आखिर कब तक हम यूंही आंसू बहाते रहेंगे ? क्या समस्याओं का बढ़ता सिलसिला कभी थमेगा ? मां भारती का