pravakta.com
जब मैं तुम्हारे संग हूँ ! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
जब मैं तुम्हारे संग हूँ, तब भी मैं कहाँ तुम्हारे साथ हूँ; तुम्हारी संस्थागत सत्ता में रहते हुए भी, मैं विश्व व्यापी व्यवस्था का परिद्रष्टा हूँ ! मेरे