pravakta.com
whatsapp पर तैरते इस विराट झूठ का कड़वा सच क्‍या - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
...कि इस समय मेरी जिह्वा पर जो एक विराट् झूठ है वही है--वही है मेरी सदी का सब से बड़ा सच ! ...ये उस कविता की पंक्‍तियां हैं जिसे कवि केदारनाथ सिंह ने