pravakta.com
विनाशकाले विपरीतबुद्धि - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
राजीव गुप्‍ता देश में व्याप्त भ्रष्टाचार को ख़त्म करने के लिए जो आवाज उठी है उसे दबाने की कोशिश करने वाले और सत्ता के मद में चूर सत्ताधारियों के लिए अगर