pravakta.com
कागजों पर अहसास लिखता हूँ। - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
ना कवि, ना लेखक, ना ही इतिहासकार हूँ... जीवन है अबूझ पहेली, उसके कुछ पल लिखता हूँ.. ना लिखता हूँ शायरी.. ना दोहों की करता बातें.. गुजरे उम्र का.. कागजों