pravakta.com
तुम सुर में बसी उनकी झलक! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
तुम सुर में बसी उनकी झलक, लख लिया करो; भाए न भाए उनकी ग़ज़ल,