pravakta.com
विहिप की सामाजिक – समरसता - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
राजीव गुप्ता समाजशास्त्रियों के अनुसार सामाजिक समूहों में मिलजुलकर रहने के कारण मनुष्य को सामाजिक प्राणी की संज्ञा दी गई है. उनका मानना है कि मिलजुलकर