pravakta.com
पहली बारिश की सौंधी सुगंध-सी हैं 'रिश्तों की बूंदें' - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
- लोकेन्द्र सिंह कवि के कोमल अंतस् से निकलती हैं कविताएं। इसलिए कविताओं में यह शक्ति होती है कि वह पढऩे-सुनने वाले से हृदय में बिना अवरोध उतर जाती हैं।