pravakta.com
शब्द जो साथी है - ब्रजेश झा - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
अब जब हमारा वक्त कंप्यूटर पर ही टिप-टिपाते निकल जाता है। स्याही से हाथ नहीं रंगते, तो कई लोग इसे पूरा सही नहीं मानते। यकीनन, हाथ से लिखे को पढ़ने का अपना आनंद है।