pravakta.com
तेरी आँखों में कहीं, खो गए हैं, जागती आँखों में, सो गए हैं। - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
देखकर तुझको मुझे, कुछ ऐसा लगा। बात दिल की तुझसे, मैं कह न सका। आसमां से जैसे ,कोई उतरी हो परी। मेरी धड़कन में बसी, तेरी तस्वीर अधूरी। चलती है