pravakta.com
स्वास्थ्य मौलिक अधिकार बने - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
प्रभांशु ओझा मजरूह सुल्तानपुरी का बड़ा प्रसिद्ध शेर है कि –मै तो अकेला ही चला था ज़निबे मंजिल मगर ,लोग मिलते गए और कारवां बनता गया. सच ही है की अगर किसी