pravakta.com
कुछ कहानियाँ - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
कुछ कहानियाँ ऐसी भी होती है। जो भूलती है ,पर भुलने नहीं देती है। दिल की छुअन में इस तरह से रहती है। क़ि गुमनाम का भी इशारा होती है। और एहसास में भी तरोताजा