pravakta.com
लघु कथा/कलरव - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
''शिवप्रसाद, तुमको इस मकान से अच्छा मकान मिल सकता था, जहां शांति रहती, परंतु तुमने छोटे-छोटे बच्चों के विद्यालय के समीप ही मकान क्यों लिया? दिन-भर बच्चों