pravakta.com
ख़लिश - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
डॉ. रूपेश जैन 'राहत' जिस सहर पे यकीं था वो ख़ुशगवार न हुयी देखो ये कैसी अदा है नसीब की समझा था जिसे बेकार, वो बेकार न हुयी