pravakta.com
सागर व नदी का वार्तालाप - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
भले ही तुम गहरे हो ! मेरा भी रिश्ता तुमसे गहरा है सदियों से तुम्हारे पास आ रही हूँ अपना रिश्ता तुमसे निभा रही हूँ सोचा!कितनी दूर से यहाँ आती हूँ