pravakta.com
चप्पलें सस्ती हैं वनवासी थोड़ा ज्ञान और थोड़ी मेहनत के बाद खुद खरीद लेंगे चप्पल" - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
विवेक कुमार पाठक गरीबों को खाना बांटना कपड़े बांटना चप्पल बांटना नेकी का काम है मगर इसका दुनिया में प्रचार प्रसार करके अपनी झांकी जमाना कहां तक उचित