pravakta.com
शाहजहांपुर की शेरनी के जज्बे को सलाम - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
अनिल अनूप एक पंक्ति गुनगुना कर लिखना पड़ रहा है ये पंक्तियां शाहजहांपुर की बहादुर बिटिया पर बिल्कुल सटीक बैठती है "अंबे है मेरी मां जगदंबे हैं मेरी मां ,तू