pravakta.com
  राजतंत्र का तबेला - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
शर्मा जी की खुशी का पारावार नहीं था। जैसे पक्षी नहाने के बाद पंख झड़झड़कार आसपास वालों को भी गीला कर देते हैं, ऐसे ही शर्मा जी अपने घर से सामने से निकलने