pravakta.com
राजनीतिक दल मुफ्तखोरी की संस्कृति की नीति अपनाने से बाज आएं - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
वक्त का तकाजा है, लोकतांत्रिक व्यवस्था को राजनीतिज्ञों ने ताक पर रख रंगरलियाॅ मना रहें है, देश की आजादी के सात दशकों बाद भी चुनावी जुमले से सत्ता की