pravakta.com
राज हर कोई करना है जग चह रहा ! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
राज हर कोई करना है जग चह रहा, राज उनके समझना कहाँ वश रहा;