pravakta.com
उर की तरन में घूर्ण दिए ! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
गोपाल बघेल 'मधु (मधुगीति १८०७०३ द) उर की तरन में घूर्ण दिए, वे ही तो रहे; सम-रस बनाना वे थे चहे, हम को विलोये ! हर तान में उड़ा के, तर्ज़ हर पे नचा के;