pravakta.com
विजय निकोर की कविता : समय - Pravakta | प्रवक्‍ता.कॉम : Online Hindi News & Views Portal of India
समय आजकल बिजली की कौंधती चमक-सा झट पास से सरक जाता है - मेरी ज़िन्दगी को छूए बिना, और कभी-कभी, उदास गई बारिश के पानी-सा बूंद-बूंद टपकता है सारी रात,