pravakta.com
स्वतंत्रता दिवस पर एक नारी की पीड़ा - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
71 वर्ष हो गये आजादी के,पर मैं अभी आजाद नहीं दर दर ठोकरे खाती हूँ,पर कही मैं अभी आबाद नहीं बचपन में पिता,जवानी में पति,बुढापे में पुत्र के आधीन रही कैसा