pravakta.com
एक पाती ऐसी हम लिखें - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
एक पाती ऐसी हम लिखें, मां भारती के नाम हम लिखें, सो रहे हैं, लोग जो, उनकी चेतना के नाम, गान हम लिखें... एक पाती ऐसी हम लिखें... तिरंगे की आन के लिए, मां