pravakta.com
एक गजल मोहब्बत पर - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
तुम सामने आ जाओ,मेरे सोये जज्बात जग जाये मेरी मोहब्बत के सफर में एक नया रंग आ जाये करता हूँ की इसलिए हर वक्त मैं तू जन्नत से उतर कर मेरे साथ संग आ जाये