pravakta.com
तुम न बदले थे और न बदलोगे । - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
हालात की चाल : - पात्र बदला , स्थान बदला और समय भी बदल गया लेकिन कहानी वही की वही रही । बदला तो सिर्फ पात्र, स्थान, और समय । हर बार की तरह इस बार भी