pravakta.com
मूर्तिपूजा और सत्यार्थप्रकाश : काशी शास्त्रार्थ के 150 वर्ष पूर्ण होने पर - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
-मनमोहन कुमार आर्य महर्षि दयानन्द को सत्यार्थप्रकाश लिखने की आवश्यकता इस लिये पड़ी थी कि उनके समय में वेद एवं वैदिक शिक्षाओं का लोप हो चुका था और यदि कहीं