pravakta.com
चन्द्र का प्रतिविम्ब ! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
चन्द्र का प्रतिविम्ब, ज्यों जल झिलमिलाए; पुरुष का प्रतिफलन, प्राणों प्रष्फुराए ! विकृति आकृति शशि की, जल-तल भासती कब; सतह हलचल चित्र, सुस्थिर राखती कहँ !