pravakta.com
तन्हाइयां - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
चाहूं मैं तुम साथ हो, जब पास हो तन्हाइयां कोई भी न साथ दे तब साथ हो तन्हाइयां मेरी हस्ती देख करके सब बिषैले हो गये हम जहां पहुंचे वहां कितने झमेले हो गये