pravakta.com
लोककल्याण का मार्ग है गीता - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
अरविंद जयतिलक पाश्चात्य जगत में विश्व साहित्य का कोई भी ग्रंथ इतना अधिक उद्धरित नहीं हुआ है जितना भगवद्गीता। भगवद्गीता ज्ञान का अथाह सागर है। जीवन का