pravakta.com
विलम्ब से विवाह वरदान या अभिशाप ? - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
शालिनी तिवारी विवाह की अवधारणा: वि+वाह; यानी विशेष उत्तरदायित्व का निर्वहन करना. सनातन धर्म में विवाह को सोलह संस्कारों में से एक अहम् संस्कार माना गया