pravakta.com
खुलेपन के मायने - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
खुलेपन के मायने बदल गए हैं, विचारों के खुलेपन को नहीं , शरीर के खुलेपन को , तरजीह मिलने लगी है। हद होती है, हर बात की, शरीर के खुलेपन की, कोई हद नज़र आती