pravakta.com
गीता का कर्मयोग और आज का विश्व, भाग-90 - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
राकेश कुमार आर्य    गीता का अठारहवां अध्याय अठारहवें अध्याय में गीता समाप्त हो जाती है। इसे एक प्रकार से 'गीता' का उपसंहार कहा जा सकता है। जिन-जिन