pravakta.com
गीता का कर्मयोग और आज का विश्व, भाग-70 - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
राकेश कुमार आर्य    गीता का तेरहवां अध्याय और विश्व समाज श्री अरविन्द का कहना है कि कर्म को और ज्ञान को हम अपनी इच्छा से चलायें या इन्हें भगवान की