pravakta.com
गीता का कर्मयोग और आज का विश्व, भाग-55 - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
राकेश कुमार आर्य   गीता का नौवां अध्याय और विश्व समाज इससे अगले श्लोक में श्रीकृष्णजी कहते हैं कि इस संसार में लोग किसी को ब्राह्मïण, किसी को बड़ा,