pravakta.com
कलयुग के देवता - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
कहने को आजाद हो गये हम पर मिली आजादी किस बात की जब बिना रिश्वतखोरी के आती नहीं है साँसभी। घर से निकलते होती है मुलाकात रिश्वतखोर दलालों से येहैं कलयुग के