pravakta.com
कई सबक दे गया साल 2015 - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
समय चक्र किसी के रोके रूकता नही है जो आज है वह कल बन जाता है ।इसी लिये वक्‍त के आईने मे हर तस्‍वीर इतिहास बन जाती है ।बेशक हम आगे बढ़ रहे हैं लेकिन पीछे