pravakta.com
अलग थलग दुनियाँ से फिर भी इस दुनियाँ में रहता हूँ
अलग थलग दुनियाँ से फिर भी इस दुनियाँ में रहता हूँ