pravakta.com
इन्ही हाथों से तकदीर बना लेंगे - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
मोहम्मद अनीस उर रहमान खान असफल और मेहनत से परहेज़ करने वाले लोगों के मुंह से सामान्यता: यह वाक्य सुना जाता है कि “भाग्य में ही लिखा था तो क्या करें”।