pravakta.com
विश्वगुरू के रूप में भारत-49 - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
राकेश कुमार आर्य  उधर शासन के लोग भी चोरी करते हैं, वहां भी भ्रष्टाचार है। वे भी जनधन को उचित ढंग से प्रयोग नहीं करते और उसे भ्रष्टाचार के माध्यम से