pravakta.com
चित्रण चितेरा कर गया ! - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
चित्रण चितेरा कर गया, है भाव अपने ले गया; कुछ दे गया सा लग रहा, गा के वो गोमन रम गया ! गोपन में रस रच चल दिया, द्रष्टा रहे वृष्टि किया;