pravakta.com
मैंने तो सिर्फ आपसे प्यार करना चाहा था  - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
डॉ. रूपेश जैन मैंने तो सिर्फ आपसे प्यार करना चाहा था ख़ाहिश-ए-ख़लीक़ इज़हार करना चाहा था धुएँ सी उड़ा दी आरज़ू पल में यार ने मिरि