pravakta.com
कैसे अटल जी,तुमको हम विदा करे - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
दिल में है गम,आँखों में है आँसू भरे कैसे अटल जी,तुमको हम विदा करे तुम एक महान कवि और वक्ता भी थे तुम्हारे भाषणों को सब ध्यान से सुनते थे वो आवाज कहाँ