pravakta.com
हर उम्र वैसे अजीब होती है - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
ये सत्तर की उम्र भी अजीब होती है, बुढ़ापे की दहलीज़ होती है, इसके आगे जितनी मिल जाये, सूद पर व्याज होती है। सत्तर की उम्र में भी रोमांस होता