pravakta.com
गीता का कर्मयोग और आज - Pravakta.Com | प्रवक्‍ता.कॉम
गीता का कर्मयोग और आज राकेश कुमार आर्य  गीता का अठारहवां अध्याय अधर्म को धर्म समझ लेना घोर अज्ञानता का प्रतीक है। मध्यकाल में बड़े-बड़े राजा